जीर्ण-शीर्ण हो जाएगा तन

whatsapptrollingjokes.com
जीर्ण-शीर्ण हो जाएगा तन,
नैनों से भी धुँधला दीखेगा,

अस्वस्थता जब घेरेगी तुम्हें,
निश्चय ही जीवन चीखेगा,
दर्द से तुम भी छटपटाओगे,
मन भी आँसुओं से भीगेगा,
घोर पीड़ा क्या होती है,
whatsapptrollingjokes.com
वृद्ध असितत्व तुम्हारा भी सीखेगा,
इसलिए हर बुज़ुर्ग का,
मिलकर यारों ध्यान रखों,
तुम बड़े हुए हो उनकी ही वजह से,
इस बात का भी थोड़ा ज्ञान रखो,
जीर्ण-शीर्ण हो जाएगा तन,
नैनों से भी धुँधला दीखेगा,
अस्वस्थता जब घेरेगी तुम्हें,
निश्चय ही जीवन चीखेगा ||
Author : Vivek Ratan Singh

Related posts:

Leave a Reply